Tuesday, August 18, 2020

Miswak ke 70 fayde मिस्वाक करने के 70 फायदे

 अस्सलामुअलयकुम वरहमतुल्लाही वबरकातुह 

मेरे प्यारे दोस्तों आप देख रहे हैं अरकम इनफो युट्युब चैनल 

दोस्तों इस वीडियो में मिस्वाक करने के 70 फायदुं की जानकारी दीजायेगी तो वीडियो को पुरा देखे और साथ में चेनलको सब्सक्राइब जरूर करले 

तो चलीये शुरू करते हैं 

 हजरत अबू हुरैरा र.अ.से रिवायत है कि रसुलुल्लाह स.व. ने फरमाया अगर में अपनी उम्मत पर इस बात को मुश्किल न जानता तो मुसलमानों को यह हुक्म देता के वो हर नमाज के लीये मिस्वाक करे

     

       इस हदीस का मतलब ये है कि अगर मुझे इस बात का डर न होता कि मेरी उम्मत दुशवारी में पड़ जाएगी तो मैं हर नमाज़ के वक़्त मिस्वाक को ज़रूरी करार देता |


      मिस्वाक की फजीलत कई हदीसों में आई है और इसकी अहमियत का अंदाज़ा इस बात से किया जा सकता है कि ये नमाज़ का सवाब बणा देती है एक रिवायत में है कि जो नमाज़ मिस्वाक करके पणी जाये वो बगैर मिस्वाक के पणी जाने वाली नमाज़ से सत्तर दरजे  बेहतर है |

    तो चलीये जानते हैं मिस्वाक के 70 फायदुं के बारे में 

1. मिस्वाक करने में अल्लाह की खुशनुदी हैं 

2. मिस्वाक वाली नमाज का सवाब 999 गूना और बाझ कीताबों के मुताबिक 440 गुना बण जाता हैं 

3. मिस्वाक को हमेशा करना रीझक को बणाता हैं 

4. मिस्वाक रीझक के अस्बाब की सहुलत का झरीया है 

5. मिस्वाक मुंह को साफ करती है

6. मिस्वाक मसूड़ों को मजबूत करती हैं

7. मिस्वाक सर के दर्द को दूर करती है

8. मिस्वाक सर की रघुं के लिए मुफीद हैं

9.  मिस्वाक बलगम को दूर करती है

10. मिस्वाक दांतुं को मजबूत करती हैं

11.  मिस्वाक मालदारी लाती हैं

12.   मिस्वाक नजर को तीज करती हैं

13.  मिस्वाक मैदा को सही करती हैं

14.  मिस्वाक बदन को ताकत पहुंचाती हैं

15.  मिस्वाक फसाहत और बालागत को पैदा करती है

16.  मिस्वाक याददाश्त को बढ़ाती है

17.  मिस्वाक अकलमंद बना ती है

18.  मिस्वाक दिल को साफ रखती है

19.  मिस्वाक नेकीयों को ज्यादा करती है

20.  मिस्वाक फरिश्तों को खुश रखती हैं

21.  मिस्वाक से चेहरा मुनव्वर हो जाने से  फरिश्ते मुसाफा करते हैं

22.  मिस्वाक की वजह से जब वह नमाज को जाता है  तो फरिश्ते  उसके साथ चलते हैं

23.  मिस्वाक की वजह से मस्जिद की तरफ जाते वक्त  अर्श उठाने वाले फरिश्ते  उसके लिए अस्तघफार करते हैं

24.   मिस्वाक करने वाले को  अंबिया और पैगंबर की  दुआ और अस्तघफार मिलती है

25.  मिस्वाक  शैतान को  नाराज और उसे दूर करती है

26.  मिस्वाक झहन को साफ करने वाली है

27.   मिस्वाक खाना हज्म करती है

28.  मिस्वाक कसरते अवलाद का बाइस है

29.  मिस्वाक पुलसीरात पर बिजली की तरह गुजारने वाली है

30.  मिस्वाक बुढापा देरसे लाती हैं 

31.  मिस्वाक नामऐ आमाल दाहने हाथ में दिलाती है

32.   मिस्वाक जिस्म को इबादते इलाही पर उभारती है

33. मिस्वाक जिस्म की गर्मी को दूर करती है

34.  मिस्वाक बदन के दर्द को दूर करती है

35.  मिस्वाक कमर  यानी पीठ के दरद को दुर करती  हैं 

36. मिस्वाक  मोत के वक्त कलमऐ शहादत याद दीलाती हैं 

37.  मिस्वाक रूह के निकलने को आसान करती है

38.  मिस्वाक दांतों को सफेद करती है

39.  मिस्वाक मुंह को खुशगवार बनाती है

40.  मिस्वाक झहन को तेज करती है

41.   मिस्वाक से कब्र में कुशादगी होती है

42.   मिस्वाक से  कब्र में उंस का बाइस है 

43. मिस्वाक न करने के बराबर लोगुं का सवाब मीलता हैं 

44. मिस्वाक करनेवालुं के लीये जन्नत के दरवाजे खोलदीये जाते हैं 

45.  फरिश्ते मिस्वाक करने वालों की तारीफ करते हुए कहते हैं  यह लोग अंबिया के नक्शे कदम पर चलने वाले हैं

46.  मिस्वाक करने वालों पर जहन्नम का दरवाजा बंद कर दिया जाता है

47.  मिस्वाक करने वाला दुनिया से पाक व साफ  होकर जाता है

48.  फरिश्ते मौत के वक्त इस तरह आते हैं जिस तरह औलिया ऐ कीराम के पास आते हैं  बाझ किताब में है कि अंबिया की तरह आते हैं

49.  मिस्वाक करने वाले की रूह उस वक्त तक दुनिया से नहीं निकलती जबतक के  वो हमारे नबी के होझ मुबारक से रहीके मखतुम का गोंट नही पीलेता

50.  मिस्वाक करने वाले की मुंह की बदबू को खत्म करती है

51.  मिस्वाक बगल की बदबू को खत्म करती है

52.  मिस्वाक जन्नत के दर्जात को बुलंद करती हैं

53.  मिस्वाक सुन्नत का सवाब है

54.  मिस्वाक दाढ़ का दर्द दूर करती है

55.  मिस्वाक शैतान के वसवसुं को दूर करती है

56.  मिस्वाक भुक पैदा करती हैं

57.  मिस्वाक जिस्म की रुतुबत को खत्म करती हैं

58.  मिस्वाक मनी को गाढ़ा करती है

59.  मिस्वाक आवाज को खूबसूरत करती है

60.  मिस्वाक पित्त की तेजी को बुजाती है

61.  मिस्वाक जुबान के मेल को साफ करती है

62.  मिस्वाक गला साफ करती हैं

63. मिस्वाक जरूरतों को पूरा करने में मददगार है

64.  मिस्वाक मुंह में खुशबू पैदा करती है

65.   मिस्वाक दर्द को सुकून देती है

66.  मिस्वाक मौत के अलावा हर मर्ज से शिफा है

67.  मिस्वाक जिस्म का रंग निखारती है

68.  मिस्वाक चेहरे को बा रोनक बनाती हैं

69.   मिस्वाक बालको उगाती है

70.  मिस्वाक का आदि जिस दिन मिस्वाक न करे  उस दिन भी सवाब लिखा जाता है


      तो मेरे प्यारे दोस्तों हर मुसलमान को इस सुन्नत को ज़रूर अपनाना चाहिए।अपने रोज़ाना की पांच वकत की नमाज में पांच बार मिस्वाक करने की आदत डालें और दूसरों को भी यह सलाह दें।


      तो मेरे प्यारे दोस्तों जानकारी अच्छी लगीहोतो वीडियो को लाइक करे और दोस्तों के साथ शेर करे और इसी तरह की इस्लामीक जानकारी पाने के लिये हमारी चेनलको सब्सक्राइब जरूर करें 

अस्सलामुअलयकुम वरहमतुल्लाही वबरकातुह

Tuesday, August 4, 2020

सेब खाने के फायदे जो आप पढ़ कर हैरान रह जाओगे

सेब के फायदे के बारे में बात करें तो  सेब पोषक तत्वों से भरपुर भंडार माना जाता है। सेब सामान्य से लेकर गंभीर शारीरिक समस्याओं का इलाज करने कीह ताकत रखता है। सेब आपको खुन की कमी, डायबिटीज , हृदय रोग, दमा और  कैंसर जैसी बडी बीमारी से बचाने का काम कर सकता हैं। सिर्फ बिमारी ही नहीं, बल्कि खूबसूरत त्वचा और खूबसूरत बालों के लिए भी सेब खाना बहुत फायदे हैं। 
     तो  चलिए जानते हैं रोज़ाना एक सेब खाने से हमे क्या क्या फायदे मिलते हैं 
      दोस्तों एनीमिया ऐसा रोग हे जीस्मे लीवर कमजोर पडनेसे शरीर मे खुन बन्ना बंद होजाता है जीस्से खुन की  कमी होजाती है तो खुन की कमी को दुर करने के लिए सेब बेहतरीन उपाय हैं रोजाना ऐक सेब खाकर उपर से एक ग्लास दुध पीये यातो सेब का ज्यूस बनाकर एक महीने तक पीया जाये तो खुन की कमी दुर होजायेगी क्योंकि सेब मे भरपूर मात्रा में आयरन पाया जाता हैं। 
      जीन लोगुंकी हड्डियां कमजोर है हाथ पैरों में दर्द रहता हो कमर में दर्द रहता हो या  बच्चों के हाथ पैर कमजोर हो तो सेब का सेवन बहुत ही फायदेमंद है क्योंकि सेब मे काफी मात्रा में कैल्शियम पाया जाता है 
      
     सेब में एंटीऑक्सीडेंट्स पाया जाता हैं, जो त्वचा से जुड़ी समस्या को दूर करता हैं अगर आप के चेहरे पर काले दाग धब्बे मुहासे है या चेहरा पीला दीखता है तो रोजाना सुबह एक सेब जरूर खाये जीस्से त्वचा से दाग धब्बे दुर हो कर त्वचा चमकदार जवान दीखेगी

   सेब मे एन्टी बैक्टेरियल होनेकी वजासे इम्यूनिटी यानी बीमारियों लेडनेकी ताकत बढाकर धातक बीमारियों से बचाता है क्योंकि सेब में कई तरह के विटामिन मिनरल मौजूद होते है जो बीमारियों से बचाता है 
     दोस्तों सेब के और कइ फायदे है जैसा कि ह्रदय को ताकत देता है हार्ड अटैक से बचाता है कोलेस्ट्राल लेवल को कंट्रोल में रखता है शरीर के वजन को बढने नही देता दीमाग को ताकत देकर याद शक्ति को बढाता है लीवर को ताकत देता है कीडनी की पथरी होने से बचाता है आंखों की रोशनी को बढाता है 
   तो दोस्तो रोजाना एक सेब खाया जाये तो हम कइ सारी बीमारियों से बचे रहेंगे और शरीर स्वस्थ जवान बना रहेगा

Tuesday, June 30, 2020

केला खाने के फायदे Kela khane ke fayde Banana benefits



दोस्तों केला बरसात की मौसम  मे हरजगह आसानी से मीलने वाला फल हैं
      केले की गिनती चुनिंदा स्वादिष्ट और गुणकारी फलों में की जाती है केला ऊर्जा का सबसे अच्छा स्रोत माना जाता है 
      केले में थायमिन रीबोफ्लावीन नियासिन फोलिक एसिड विटामिन A और विटामिन B काफी मात्रा में पाया जाता है 
       तो चलिए जानते हैं केले खानेके फायदे के बारे में 
     दुबले पतले लोगों को वजन बढ़ाने तथा ताकत के लिए रोजाना सुबह 3 4 केले दुध के साथ लेनेसे वजन बढने के साथ साथ शरीर ताकतवर बनता है। 
     केले  को दही में मिलाकर रोज़ाना खाली पेट खाने से वीर्य गाढ़ा होकर योन शक्ति बढजाती है 
    केला  खाने से हड्डियाँ मजबूत बनती हैं क्यों के केलेमे कैल्शियम और मैग्नीशियम काफी मात्रा में पाया जाता है 
    खाना खाने के बाद रोजाना केला खाया जाये तो खाना आसानी से पचजाता है जीस्से गेस कब्ज की तकलीफ नही होती है क्योंकि केलेमे फाइबर भरपूर मात्रा में पाया जाता हैं 
    जीन लोगुंको एनीमिया  यानी शरीर मे खुन की कमी रहती हो उनको केला खाने से खुन की कमी दुर होजाती है क्योंकि केलेमे आयरन पाया जाता है 
      दील और ब्लडप्रेशर के मरीजों के लिए केला बहुत ही फायदेमंद है क्योंकि केलेमे पोटेशियम पाया जाता है जो हार्ट अटैक से बचाता है और ब्लडप्रेशर को कंट्रोल में रखता है। 
     केला खाने से याददाश्त बनी रहती है क्योंकि  केले में विटामिन B6 पाया जाता है जो नीर्वस सिस्टम को ठीक रखता है 

Thursday, May 14, 2020

Happy EidulFitra Eid Mubarak Status images pictures 2020

eidulfitra Mubarak images


    रमजान इस्लामिक कैलेंडर का 9वां महीना है। इस्लाम मे  चांद कैलेंडर का उपयोग होता है  यानी हर महीने की शुरुआत नए चांद के देखने से होती है। क्युं की चांद कैलेंडर सुरज कैलेंडर की तुलना में लगभग 11 दिन छोटा होता है, दुनिया भर में 180 करोड से ज्यादा मुसलमान इस महीने में रोजा (उपवास) करते हैं यानी अल्लाह की इबादत के लिए खाने  पीने के साथ साथ दुनिया के बीन जरूरी कामों को छोडदेते हैं   इस रमजान के महीने में मुसलमान पवित्र किताब यानी कुरान को जीयादा पढते हैं और रात को तरावी मे पुरे महीने में पुरे कुरान को पुरा करते हैं 

ईदुल फित्र दीन का त्योहार 

     जब मुसलमान पुरे महीने के रोजे पुरे करते हैं तो रमजान की आखिरी रात को चांद देखकर ईद के दिन का फैसला होता है.तो अल्लाह मुसलमानों को इनाम देते हैं जीसको इदुलफित्र कहते है इदुलफित्र के दीन मुसलमान छोटे छोटे गांव से जाकर शहरों मे जमा होते हैं वहां ईदगाह और बड़ी मस्जिदों में इद की नमाज पढते हैं नमाज के बाद मुसलमान एक-दूसरे की मुलाकात करते हैं     ऐसे में लोग एक-दूसरे के घर ईद पर जाते हैं और एक-दूसरे को ईद की बधाई देते हैं। लेकिन जो लोग दूसरे शहरों में या दोस्तों से दूर रहते हैं, वे भी सोशल मीडिया पर उन्हें बधाई देते हैं। अगर आप भी अपने दोस्तों को ईद की मुबारकबाद भेजना चाहते हैं या whatsapp पर स्टेटस लगाने के लिए इद मुबारक इमेज लगाना चाहते हैं तो आज हम आपको ईद के लिए खास इमेज दिखा रहे हैं, जिन्हें आप अपने whatsapp स्टेटस के लिए डाउनलोड कर सकते हैं।


eid Mubarak images
eid mubarak image


चेचन्या जहा सबसे खुबसूरत इलाका खुबसूरत लड़कियां और बहादुर कोम रहती हैं





दोस्तों, आज मैं आपको दुनिया के सबसे खूबसूरत लोग और सबसे खूबसूरत इलाके यानी चेचन्या के बारे में इस पोस्ट में बताने वाला हुं।

     हमने सैकड़ों जिन और परियों की कहानियां सुनी हैं जिनमें कोहे काफ के नाम का जिक्र हमेशा होता है, यानी जिन्नों और परियों का देश। लेकिन दोस्तों, यह जन्नत जैसा टुकड़ा यानी चेचन्या, दुनिया के सबसे खूबसूरत इलाकों में से एक है, जहाँ इसकी सुंदरता के अलावा, इसके निवासियों के अपने नैतिकता और ईमानदारी के नजरिए में इसका अपना उदाहरण है। चेचन्या इस्लामी परंपराओं वाला एक देश है। एक तरह से, चेचन्या को दशकों तक बदकिस्मत कहा जा सकता है आजादी के लिए लड़ने के बावजूद, इस क्षेत्र में अभी भी पूर्ण स्वतंत्रता की कमी है। चेचन्या का पूरा और आधिकारिक नाम चेचन्या गणराज्य है। चेचन्या की जनसंख्या 1436000 है। चेचन्या का क्षेत्रफल 17,300 वर्ग किलोमीटर है। यह दुनिया का 75 वां सबसे बड़ा देश है। इसकी राजधानी ग्रोज़नी है। चेचन्या की 32 प्रतिशत आबादी शहरों में रहती है। देश के झंडे में तीन रंग शामिल हैं: हरा, सफेद और लाल।  जिसमें हरा रंग मुसलमान होने सफेद रंग अमन शान्ति और सुर्ख रंग उन शहीदों की याद दिलाती है जिन्होंने आजादी के लिए अपना बलिदान दिया था

      चेचन्या की सरहदें  जॉर्जिया अंगोस्तीया दागेस्तान रूस से मिलती है और एक सरहद बहरी कोजबीन से मिलती है। 

     देश के वर्तमान राष्ट्रपति रमजान कदुरो हैं। राष्ट्रपति का चुनाव यहां चार साल के लिए किया जाता है।

     यह क्षेत्र आंशिक रूप से मध्य यूरोप में स्थित है। चेचन्या को मुख्य रूप से किसी भी जिले में नहीं बांटा गया है, लेकिन देश के विभिन्न हिस्सों में अलग-अलग भाषाएं बोली जाती हैं। चेचन्या में सबसे अधिक बोली जाने वाली भाषाएं चेचन और रूसी हैं। अन्य छोटी भाषाएँ भी बोली जाती हैं

     देश की 95.3 प्रतिशत आबादी में से 75 प्रतिशत चेचन वंश के हैं, और शेष 4.7 प्रतिशत में रूसी प्रतिबद्ध अनश और अन्य छोटे जातीय समूह शामिल हैं। कुछ रूसी स्रोतों के अनुसार, 1994 में हिंसा में हजारों लोग मारे गए थे। यूक्रेनी आर्मेनियाई और चीनी देश छोड़ गये थे 

     इस्लाम देश का सबसे बड़ा धर्म है देश की आबादी का पचहत्तर प्रतिशत सुन्नी मुसलमान हैं जो इमाम शाफीई का अनुसरण करते हैं। अन्य संप्रदायों में कादरी और नक्शबंदी शामिल हैं लेकिन सबसे अधिक आबादी वाले शाफी और हनफ़ी हैं  अन्य धर्मों की बहुत कम संख्या है लाफ्टर के अनुसार, 2015 में मुस्लिम ग्रोजनी में एक निन्दात्मक फिल्म का विरोध प्रदर्शन हुवा था जिसमें  लगभग 350,000 से 500,000 लोग जमा हुये थे 

     चेचन्या में शादी मे दूल्हा एक तीन-टुकड़ा पैंट कोट पहनता है, जबकि दुल्हन एक सफेद पोशाक पहनती है। यहां एक अजीब रिवाज यह है कि शादी के बाद, दूल्हा अपने ससुराल वालों से नहीं मिलता है और जब तक पेहला बच्चा पैदा नहीं होता है तब तक दुल्हन अपने ससुराल वालों से नहीं मिलती है। 

     यहां की जामा मस्जिद को देश के दिल के रूप में मानाजाता है। यह मस्जिद देश में सबसे बड़ी है। पहले लोकतांत्रिक नेता के आगमन की याद में बनाइ गइ हैं , 

     कोहे काफ का विशाल विस्तार भी उसी देश में स्थित है। यह पर्वत श्रृंखला एशिया और यूरोप के बीच जुदाई की रेखा खींचती है। जब बर्फ यहां के ग्लेशियरों की ओर पिघलती है, तो यह दृश्य दुनिया भर के पर्यटकों को आकर्षित करता है और दुनिया भर से हजारों पर्यटक इन दृश्यों का आनंद लेने के लिए आते हैं। ऐसा कहा जाता है कि यह ग्लेशियर बहुत लंबा और उजाड़ है। इन पहाड़ों को पूरी तरह से नहीं देख पाया है 

     चेचन्या में वार्षिक पारंपरिक भोजन उत्सव मनाते हैं, जिसे शाह सिल्क फूड फेस्टिवल कहा जाता है, जो सबसे उत्साही और भोजन-प्रेमी लोगों के लिए एक उत्सव का अवसर है। इस त्योहार में किसी भी छोटे जानवर को पूरी तरह से भुना जाता है। इस त्योहार का आयोजन पूरे देश में किया जाता है। राष्ट्रपति इन कार्यक्रमों में जाते हैं और आम लोगों से मिलते हैं। इस दौरान, लोग सुंदर गाने और नृत्य भी करते हैं। युवा लड़कियां अपनी सुंदरता और युवावस्था के कारण मॉडलिंग करना पसंद करती हैं। और इसकी विशाल सुंदरता के कारण, यह किसी को भी आकर्षित कर सकती है, लेकिन इन मॉडल शो में, अश्लील कपड़ों के बजाय, हिजाब और पूरे शरीर को सुंदर कपड़ों से ढंका जाता है, जो यहां अच्छी और स्वच्छ संस्कृति को बनाए रखने का एक अमूल्य हिस्सा है। 

      एशिया और यूरोप के बीच तेल पाइपलाइनें इसी क्षेत्र से गुजरती हैं। कारण यह है कि रूस किसी भी परिस्थिति में इस क्षेत्र को अपने हाथों से बाहर जाने की अनुमति नहीं देता है। चेचेन को इस संबंध में सबसे अमीर क्षेत्र माना जाता है क्योंकि यहां लगभग 15,000 तेल रिफाइनरियां हैं। एक ऐतिहासिक दृष्टिकोण से, रूस। अपने नियंत्रित मे लेने के लिए, उन्होंने चालीस साल तक जुल्म का बाजार गर्म रखा और 1875 में रूस ने इस क्षेत्र को अपना क्षेत्र घोषित कर दिया। 1870 से 1920 तक चेचन्या कभी रूसी कब्जे में था। और एक बार यहां आने वाले क्रांतिकारियों से जुड़े होने के बाद, इसने 1924 में सोवियत संघ ने कब्जा कर लिया। और दुसरे विश्व युद्ध के दौरान, जब जर्मन सेना ग्रोज़नी पहुंची, चेचन्या के योद्धाओं ने रूसी तानाशाह जोसेफ के खिलाफ अपनी आवाज उठा लिया। 

       1991 में लाखों मुस्लिमों का नरसंहार किया गया जब अन्य बाल्टिक राज्यों ने अपनी स्वतंत्रता की घोषणा की। वही चेचन लोगों ने अपनी स्वतंत्रता की घोषणा की, लेकिन रूस ने उस स्वतंत्रता को मान्यता नहीं दी और दागेस्तान से चेचन्या पर आक्रमण किया। रूस ने सोचा था कि वह अपनी विशाल सेना की ताकत से चेचन्या को कबजा हासिल करेगा लेकिन ऐसा नहीं हुआ, और एक महीने की भीषण लड़ाई के बावजूद, रूसी सेना चेचन राजधानी ग्रोज़्नी पर कब्जा करने में असमर्थ रही। 

      1990 में, रूसी सैनिकों ने चेचन राजधानी ग्रोज़नी में फिर से प्रवेश किया, लेकिन संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार निकाय रूस पर मानवाधिकारों के हनन का आरोप लगाया गया और उसने अपने सैनिकों की तत्काल वापसी का आह्वान किया रूस ने 2001 में चेचन्या को  निशाना बनाया था । ऐसा कहा जाता है कि 2000 और 2008 के बीच। कई कब्रों की खोज की गई जिसमें हजारों लोगों को एक साथ दफनाया गया था  

       चेचेन की रोजगार का मुख्य स्रोत खेती भेड़ और घोड़े पालना हैं।

      रूस ने चेचन्या पर आर्थिक प्रतिबंध लगाए और चेचन्या के सभी व्यापार मार्गों को बंद कर दिया चेचन्या की छह वर्षों में बेरोजगारी दर 67% थी, लेकिन वर्तमान राष्ट्रपति के अंथक प्रयासों की बदौलत, चेचन्या की आर्थिक वृद्धि तेजी से बढ़ी है और 2014 के एक रिपोर्ट के अनुसार रोजगार के स्रोतों की एक विस्तृत श्रृंखला बनाई है। रोजगार की दर केवल 21.5% है। 

      वहा की करंसी को रूबल कहा जाता है। 

      चेचन्या एक हल्की जलवायु वाला एक क्षेत्र है, लेकिन सर्दियों में यह पहाड़ों में बरफ बारी होती है, जीस्की वजासे गंभीर ठंड का कारण बनता है। 

     देश का सबसे बड़ा और सबसे ऊंचा पहाड़ अल ब्रुज़ और काजबिक हैं। इन पहाड़ों की ऊंचाई पांच हजार छह सौ बयालीस और पांच हजार तैंतीस फीट हैं । 

      चेचन्या में कई प्राकृतिक झरने हैं जहां बड़ी संख्या में विदेशी पर्यटक आते हैं। यदि आप चेचन्या की यात्रा करना चाहते हैं, तो आपको रूसी सरकार से अनुमति लेनी होगी। आपके पास एक साल का पासपोर्ट होना चाहिए और आप इसे रूसी वीजा वेबसाइट से प्राप्त कर सकते हैं। आप अब दिल्ली में रूसी दूतावास से भी संपर्क कर सकते हैं। चेचन्या जानेके लीये सड़क, रेलवे और हवाई अड्डे हैं। रूसी शहरों से ग्रोज़मी के लिए दैनिक उड़ानें हैं।

       चेचन मे यमी मीट परोसा जाता है। नूडल्स सबसे पसंदीदा व्यंजन माना जाता है। चेचन राष्ट्रीय पशु ग्रे वुल्फ है। यह थी चेचन्या की कुच जानकारी।

कॉमेंट करके जरूर बताना आप को यह जानकारी कैसी लगी। 

Sunday, May 3, 2020

पपीता खाने के दमदार फायदे और नुकसान


   पपीता एक आसानी से पचने वाला फल है। पपीता एक बहुत ही स्वादिष्ट सेहतमंद फल है, पपीता भूख और शक्ति बढ़ाता है।पपीता दिल को स्वस्थ रखता है यह तिल्ली, यकृत और पीलिया जैसी बीमारियों को ठीक करता है। पेट की बीमारियों को ठीक करने में पपीता खाना फायदेमंद है। पपीता खाने से पाचन तंत्र में सुधार होता है। पपीते का रस अनिद्रा, सिरदर्द, कब्ज और अन्य रोगों को ठीक करता है। पपीते का जूस पीने से एसिडिटी (खट्टी डकारें आना) खत्म हो जाती हैं। पपीता पेट की बीमारियों, दिल की बीमारियों, आंतों की कमजोरी आदि को ठीक करता है।इसमें बहुत सारे औषधीय गुण होते हैं जो बहुत सारे स्वास्थ्य लाभ पहुंचाते हैं कच्चे पपीते की सब्जी खाना पेट के लिए फायदेमंद होता है।पके पपीते की तुलना में कच्चा पपीता स्वास्थ्य के लिए अधिक फायदेमंद है। यह विटामिन ए से भरपूर होता है।हाई ब्लड प्रेशर में पपीते की पत्तियों का इस्तेमाल फायदेमंद है यह ब्लड प्रेशर को कंट्रोल रखता है।

     यह बीटा कैरोटीन जैसे एंटी-ऑक्सीडेंट से भरपूर होता है जो आपको लंबे समय तक जवान बने रहने में मदद कर सकता है। पपीते का सेवन पेट के लिए भी बहुत फायदेमंद होता है। अगर आप अपने पेट को स्वस्थ रखना चाहते हैं, तो अपने आहार में पपीते को नियमित रूप से शामिल करें।हम आपको पपीते के कुछ फायदों के बारे में बताने जा रहे हैं।

1. कोलेस्ट्रॉल दिल की बीमारियों का मुख्य कारण है। जब हृदय की रक्त वाहिकाओं में कोलेस्ट्रॉल जमा हो जाता है, तो दिल से संबंधित बीमारियों का खतरा बढ़ जाता है। पपीता फाइबर, विटामिन सी और एंटी-ऑक्सीडेंट से भरपूर होता है जो रक्त वाहिकाओं में कोलेस्ट्रॉल को जमा होने से रोकता है जो हृदय को स्वस्थ रखता है।

2. आजकल लोग फास्ट फूड का सेवन करना पसंद करते हैं, यह पेट के लिए बहुत हानिकारक होते हैं, इनका सेवन आपके पाचन तंत्र को खराब कर देता है। लेकिन अगर आप नियमित रूप से पपीते का सेवन करते हैं, तो यह आपके पेट को हमेशा स्वस्थ रख सकता है, पपीता पाचन एंजाइमों से भरपूर होता है। इसके अलावा, इसमें कई तरह के फाइबर होते हैं जो सही पाचन क्रिया को बनाए रखने में मदद करते हैं, इसके खाने से कब्ज की समस्या से भी छुटकारा मिलता है।

3.पपीता वीर्य को बढ़ाता है, पागलपन को खत्म करता है और मुंह के घावों को खत्म करता है। इसे खाने से घाव ठीक होते हैं और दस्त को रोकने मे मदद करता है और पेशाब की रुकावट से राहत मिलती है। कच्चे पपीता का दूध त्वचा रोगों के लिए बहुत फायदेमंद होता है।

4.पपीते के बीज कीड़ों को मारता हैं और मासिक धर्म को नियमित करता हैं। पपीता महिलाओं के स्तन के दूध को बढ़ाता है।

5.पपीता पाउडर पीने से पेट की जलन, घाव, ट्यूमर और अपच ठीक हो जाता है।

6.पका पपीता पाचन शक्ति बढ़ाता है, भूख बढ़ाता है, अधिक पेशाब लाता है, मूत्राशय के रोगों को खत्म करता है, पथरी को खत्म करता है और मोटापे को खत्म करता है। पपीता बलगम के साथ रक्त आने को रोकता है और खुनी बवासीर को रोकता है।

हानिकारक:

गर्भावस्था के दौरान और जिन महिलाओं को मासिक धर्म अधिक आता हो उन्हें कच्चा या पका पपीता नहीं खाना चाहिए। कच्चा पपीता बवासीर के रोगियों के लिए हानिकारक है। पपीते के बीज के उपयोग से गर्भपात हो सकता है।



Saturday, May 2, 2020

आँखों की रोशनी बढ़ाएं और इस चमत्कारी दवा से 15 साल जवानी लोट आयेगी




     आँखों की रोशनी बढ़ाने और आंखों के आस-पास की स्किन को पुनर्जीवित करने का उपचार बहुत ही आसान है, तमाम चीजें आपकी रसोई घर में मिलेंगी और इसे बनाने का तरीका बहुत सरल है।
इस दवा के बारे में सबसे अच्छी बात यह है कि यह पूरी तरह से सुरक्षित है और इसका कोई साइड इफेक्ट नहीं है क्योंकि यह कुदरती तत्वो से बना है।

     और इस दवा को बनाने के लिए, आपकी जेब से अधिक खर्चा नहीं होगा क्योंकि यह बहुत कम कीमत पर बनाया गया है।

      रोजाना उपयोग के साथ, आंखों के आसपास की त्वचा नरम और कोमल हो जाती है और इसके अलावा, आपके बाल बेहतर हो जाएंगे और बालों का झड़ना कम होगा।
     एक बार इसका उपयोग करें क्योंकि यह आपका इस्मे कुछ भी खर्च नहीं होगा लेकिन स्वास्थ्य के लीये कीमती हैं।

तैयार करने के लिए सामग्री:

लहसुन की 3 कली

10 बड़े चम्मच शुद्ध शहद

200 ग्राम अलसी का तेल

4 नींबू

बनाने का तरीका

सबसे पहले लहसुन को छीलकर पीसले। नींबू के रस को एक कांच के जार में रखे इस जार में पीसाहुवा लहसुन, शहद और अलसी के तेल को डालकर अच्छी तरह से लकड़ी के चम्मच से अच्छी तरह से मिलालें। आपकी दवा तैयार है। इसे खाने से पहले दिन में 3 बार एक चम्मच लें। इसे त्वचा पर न लगाएं।

यह चमत्कारी दवा आपकी आंखों की रोशनी बढ़ाने के साथ-साथ आपके चेहरे को खुबसूरत बनायेगा और आपका चेहरा युवान दिखने लगेगा। आप इस दवा का परिणाम देखकर दंग रहजाओगे।