Tuesday, June 30, 2020

केला खाने के फायदे Kela khane ke fayde Banana benefits



दोस्तों केला बरसात की मौसम  मे हरजगह आसानी से मीलने वाला फल हैं
      केले की गिनती चुनिंदा स्वादिष्ट और गुणकारी फलों में की जाती है केला ऊर्जा का सबसे अच्छा स्रोत माना जाता है 
      केले में थायमिन रीबोफ्लावीन नियासिन फोलिक एसिड विटामिन A और विटामिन B काफी मात्रा में पाया जाता है 
       तो चलिए जानते हैं केले खानेके फायदे के बारे में 
     दुबले पतले लोगों को वजन बढ़ाने तथा ताकत के लिए रोजाना सुबह 3 4 केले दुध के साथ लेनेसे वजन बढने के साथ साथ शरीर ताकतवर बनता है। 
     केले  को दही में मिलाकर रोज़ाना खाली पेट खाने से वीर्य गाढ़ा होकर योन शक्ति बढजाती है 
    केला  खाने से हड्डियाँ मजबूत बनती हैं क्यों के केलेमे कैल्शियम और मैग्नीशियम काफी मात्रा में पाया जाता है 
    खाना खाने के बाद रोजाना केला खाया जाये तो खाना आसानी से पचजाता है जीस्से गेस कब्ज की तकलीफ नही होती है क्योंकि केलेमे फाइबर भरपूर मात्रा में पाया जाता हैं 
    जीन लोगुंको एनीमिया  यानी शरीर मे खुन की कमी रहती हो उनको केला खाने से खुन की कमी दुर होजाती है क्योंकि केलेमे आयरन पाया जाता है 
      दील और ब्लडप्रेशर के मरीजों के लिए केला बहुत ही फायदेमंद है क्योंकि केलेमे पोटेशियम पाया जाता है जो हार्ट अटैक से बचाता है और ब्लडप्रेशर को कंट्रोल में रखता है। 
     केला खाने से याददाश्त बनी रहती है क्योंकि  केले में विटामिन B6 पाया जाता है जो नीर्वस सिस्टम को ठीक रखता है 

Wednesday, June 10, 2020

मछली हलाल क्यूँ है जबकि वह ज़िबह नहीं की जाती ? Machhli Halal kyun Jabki vo halal nahi ki jati ?

मछली हलाल क्यूँ है जबकि वह ज़िबह नहीं की जाती ?

 विज्ञान ने गैर मुसलमानों के सबसे बड़े सवाल का जवाब दे दिया

       इस्लाम ने हलाल खाने का हुक्म  देते हुए हराम खाने  से मना किया है और ऐसे जानवर का गोश्त का उपयोग करने के लिए हुक्म  दिया है जिसे इस्लामी तरीके से ज़िबह किया गया हो।

      झटके से मारे गए जानवर का गोश्त इस्लाम में हराम है
गैर मुस्लिम  इस्लाम के इस हुक्म के  मुताल्लिक  मछली के बारे मे सवाल करते हैं कि उसे ज़िबह नहीं किया जाता तो यह कैसे हलाल हो गई

      लेकिन अब विज्ञान ने इस सवाल का जवाब दे दिया है और ऐसा आश्चर्यजनक खुलासा किया है! अल्लाह ने दुनिया में मौजूद हर शै को सही तरीके से बनाया है और ऐसा ही मामला मछली के साथ भी है वो  जैसे ही पानी से बाहर आती है तो उसके शरीर में मौजूद सभी रक्त तुरंत अपना रास्ता बदल लेता है और मछली के मुंह में इकठ्ठा होकर " एपीगलोटस" में जमा होना शुरू हो जाता है।

      मछली के पानी से निकलने के कुछ ही देर बाद उसके शरीर में मौजूद रक्त एक एक बूंद एपीगलोटस में जमा हो जाता है और उसका  गोश्त पाक और हलाल रहता है और यही कारण है कि मछली ज़िबह  करने की जरूरत ही पेश नहीं आती  और जिस दौरान मछली का गोश्त बनाया जाता है तो " एपीगलोटस"को बाहर निकाल दिया जाता है।
        यही नहीं विज्ञान ने इस्लाम में हलाल भोजन के हुक्म  के पीछे छिपे तथ्य को भी प्रकट किया है जिससे गैर मुस्लिम भी हक्का-बक्का रह गए हैं क्योंकि जब किसी जानवर को ज़िबह किया जाता है तो उसके दिल और दिमाग का संपर्क समाप्त नहीं होता और दिल जानवर की वाहिकाओं और धमनियों में मौजूद सभी रक्त बाहर निकलने तक धड़कता रहता है और इस तरह उसका गोश्त खून से पाक और हलाल हो जाता है।

        दूसरी ओर जब किसी जानवर को गैर इस्लामी तरीके से  यानी "झटके"  से मार दिया जाता है तो उसका दिल भी तुरंत धड़कन बंद कर देता है और इस प्रकार शरीर से खून निकल ही नहीं पाता। वैज्ञानिकों का मानना है कि विभिन्न प्रकार के गंभीर रोग पैदा करने वाले जरासीमों और बैक्टरियाज़ के  प्रजनन के लिए रक्त बहुत अच्छा माध्यम है और जब जानवर के शरीर से खून निकल ही नहीं पाता तो यह गोश्त ही खराब कर देता है और जब इंसान उसे खाता हैं तो कई बीमारियों से पीड़ित हो जाता हैं।
याद रखिये ज़िबह किये हुए गोश्त की फ्रिज लाइफ झटके के गोश्त से कहीं ज़्यादा होती है। इसीलिए कहा जाता है के इस्लाम 100 परसेंट एक प्राकृतिक तथा वैज्ञानिक धर्म है।

        इस्लाम पूरी दुनिया के लिए सही मज़हब है.क्योंकि वह एक ईश्वर को पूजने का हुक्म देता है.और इस्लाम के  नियम ईश्वर ने ख़ुद बनाए है अपने बंदो के लिए, आज साइंस इस्लाम के हर नियम पर रिसर्च कर रहा है, और संतुष्ट भी हो रहा है,.?