Tuesday, August 18, 2020

Miswak ke 70 fayde मिस्वाक करने के 70 फायदे

 अस्सलामुअलयकुम वरहमतुल्लाही वबरकातुह 

मेरे प्यारे दोस्तों आप देख रहे हैं अरकम इनफो युट्युब चैनल 

दोस्तों इस वीडियो में मिस्वाक करने के 70 फायदुं की जानकारी दीजायेगी तो वीडियो को पुरा देखे और साथ में चेनलको सब्सक्राइब जरूर करले 

तो चलीये शुरू करते हैं 

 हजरत अबू हुरैरा र.अ.से रिवायत है कि रसुलुल्लाह स.व. ने फरमाया अगर में अपनी उम्मत पर इस बात को मुश्किल न जानता तो मुसलमानों को यह हुक्म देता के वो हर नमाज के लीये मिस्वाक करे

     

       इस हदीस का मतलब ये है कि अगर मुझे इस बात का डर न होता कि मेरी उम्मत दुशवारी में पड़ जाएगी तो मैं हर नमाज़ के वक़्त मिस्वाक को ज़रूरी करार देता |


      मिस्वाक की फजीलत कई हदीसों में आई है और इसकी अहमियत का अंदाज़ा इस बात से किया जा सकता है कि ये नमाज़ का सवाब बणा देती है एक रिवायत में है कि जो नमाज़ मिस्वाक करके पणी जाये वो बगैर मिस्वाक के पणी जाने वाली नमाज़ से सत्तर दरजे  बेहतर है |

    तो चलीये जानते हैं मिस्वाक के 70 फायदुं के बारे में 

1. मिस्वाक करने में अल्लाह की खुशनुदी हैं 

2. मिस्वाक वाली नमाज का सवाब 999 गूना और बाझ कीताबों के मुताबिक 440 गुना बण जाता हैं 

3. मिस्वाक को हमेशा करना रीझक को बणाता हैं 

4. मिस्वाक रीझक के अस्बाब की सहुलत का झरीया है 

5. मिस्वाक मुंह को साफ करती है

6. मिस्वाक मसूड़ों को मजबूत करती हैं

7. मिस्वाक सर के दर्द को दूर करती है

8. मिस्वाक सर की रघुं के लिए मुफीद हैं

9.  मिस्वाक बलगम को दूर करती है

10. मिस्वाक दांतुं को मजबूत करती हैं

11.  मिस्वाक मालदारी लाती हैं

12.   मिस्वाक नजर को तीज करती हैं

13.  मिस्वाक मैदा को सही करती हैं

14.  मिस्वाक बदन को ताकत पहुंचाती हैं

15.  मिस्वाक फसाहत और बालागत को पैदा करती है

16.  मिस्वाक याददाश्त को बढ़ाती है

17.  मिस्वाक अकलमंद बना ती है

18.  मिस्वाक दिल को साफ रखती है

19.  मिस्वाक नेकीयों को ज्यादा करती है

20.  मिस्वाक फरिश्तों को खुश रखती हैं

21.  मिस्वाक से चेहरा मुनव्वर हो जाने से  फरिश्ते मुसाफा करते हैं

22.  मिस्वाक की वजह से जब वह नमाज को जाता है  तो फरिश्ते  उसके साथ चलते हैं

23.  मिस्वाक की वजह से मस्जिद की तरफ जाते वक्त  अर्श उठाने वाले फरिश्ते  उसके लिए अस्तघफार करते हैं

24.   मिस्वाक करने वाले को  अंबिया और पैगंबर की  दुआ और अस्तघफार मिलती है

25.  मिस्वाक  शैतान को  नाराज और उसे दूर करती है

26.  मिस्वाक झहन को साफ करने वाली है

27.   मिस्वाक खाना हज्म करती है

28.  मिस्वाक कसरते अवलाद का बाइस है

29.  मिस्वाक पुलसीरात पर बिजली की तरह गुजारने वाली है

30.  मिस्वाक बुढापा देरसे लाती हैं 

31.  मिस्वाक नामऐ आमाल दाहने हाथ में दिलाती है

32.   मिस्वाक जिस्म को इबादते इलाही पर उभारती है

33. मिस्वाक जिस्म की गर्मी को दूर करती है

34.  मिस्वाक बदन के दर्द को दूर करती है

35.  मिस्वाक कमर  यानी पीठ के दरद को दुर करती  हैं 

36. मिस्वाक  मोत के वक्त कलमऐ शहादत याद दीलाती हैं 

37.  मिस्वाक रूह के निकलने को आसान करती है

38.  मिस्वाक दांतों को सफेद करती है

39.  मिस्वाक मुंह को खुशगवार बनाती है

40.  मिस्वाक झहन को तेज करती है

41.   मिस्वाक से कब्र में कुशादगी होती है

42.   मिस्वाक से  कब्र में उंस का बाइस है 

43. मिस्वाक न करने के बराबर लोगुं का सवाब मीलता हैं 

44. मिस्वाक करनेवालुं के लीये जन्नत के दरवाजे खोलदीये जाते हैं 

45.  फरिश्ते मिस्वाक करने वालों की तारीफ करते हुए कहते हैं  यह लोग अंबिया के नक्शे कदम पर चलने वाले हैं

46.  मिस्वाक करने वालों पर जहन्नम का दरवाजा बंद कर दिया जाता है

47.  मिस्वाक करने वाला दुनिया से पाक व साफ  होकर जाता है

48.  फरिश्ते मौत के वक्त इस तरह आते हैं जिस तरह औलिया ऐ कीराम के पास आते हैं  बाझ किताब में है कि अंबिया की तरह आते हैं

49.  मिस्वाक करने वाले की रूह उस वक्त तक दुनिया से नहीं निकलती जबतक के  वो हमारे नबी के होझ मुबारक से रहीके मखतुम का गोंट नही पीलेता

50.  मिस्वाक करने वाले की मुंह की बदबू को खत्म करती है

51.  मिस्वाक बगल की बदबू को खत्म करती है

52.  मिस्वाक जन्नत के दर्जात को बुलंद करती हैं

53.  मिस्वाक सुन्नत का सवाब है

54.  मिस्वाक दाढ़ का दर्द दूर करती है

55.  मिस्वाक शैतान के वसवसुं को दूर करती है

56.  मिस्वाक भुक पैदा करती हैं

57.  मिस्वाक जिस्म की रुतुबत को खत्म करती हैं

58.  मिस्वाक मनी को गाढ़ा करती है

59.  मिस्वाक आवाज को खूबसूरत करती है

60.  मिस्वाक पित्त की तेजी को बुजाती है

61.  मिस्वाक जुबान के मेल को साफ करती है

62.  मिस्वाक गला साफ करती हैं

63. मिस्वाक जरूरतों को पूरा करने में मददगार है

64.  मिस्वाक मुंह में खुशबू पैदा करती है

65.   मिस्वाक दर्द को सुकून देती है

66.  मिस्वाक मौत के अलावा हर मर्ज से शिफा है

67.  मिस्वाक जिस्म का रंग निखारती है

68.  मिस्वाक चेहरे को बा रोनक बनाती हैं

69.   मिस्वाक बालको उगाती है

70.  मिस्वाक का आदि जिस दिन मिस्वाक न करे  उस दिन भी सवाब लिखा जाता है


      तो मेरे प्यारे दोस्तों हर मुसलमान को इस सुन्नत को ज़रूर अपनाना चाहिए।अपने रोज़ाना की पांच वकत की नमाज में पांच बार मिस्वाक करने की आदत डालें और दूसरों को भी यह सलाह दें।


      तो मेरे प्यारे दोस्तों जानकारी अच्छी लगीहोतो वीडियो को लाइक करे और दोस्तों के साथ शेर करे और इसी तरह की इस्लामीक जानकारी पाने के लिये हमारी चेनलको सब्सक्राइब जरूर करें 

अस्सलामुअलयकुम वरहमतुल्लाही वबरकातुह

Share This
Latest
Next Post

Friends, if you want to know about the country and the world, as you want to know and read Islamic Knowledge, Articles, True Stories, Health Tips, General Knowledge, and more, then you have come to the right website

0 Please Share a Your Opinion.:

Please Do not enter any spam link in the Comment box